Kya Makkah Mai Selfie Lena Sahi hai

Kya Makkah mai Selfie Lena Sahi hai

आप तमाम हज़रात से एक सवाल पेश करना चाहता हो उम्मीद है आप अपनी अपनी राय जरूर कायम करेंगे।

मेरे सवाल ये है के क्या हम जब उमराह या हज के लिए जाते है तो अक्सर देखा जाता है एक रिवाज़ बन गया है की कई हज़रात वह पर क़बा के तरफ पीठ कर के सेल्फ़ी लेते है और वो सेल्फ़ी बहुत ही ज़ोर सोर से अपने दोस्तों व सोसल नेटवर्किंग साइट पर उपलोड करते है, क्या ये सही बात है की हम आएसी मुक़द्दस जगह में जा कर अपने गुनाहों की माफ़ी न मांग कर वह पर फोटोग्रफीय करे, क्या ये बात सही है की जब इस्लाम में फोटो निकलना मना फ़रमाया है तो फिर क्या उस मुक़द्दस जगह पर सेल्फी निकले, तो क्या हमारी नियत यही है की हम वह पर जाएंगे तो सेफ्ली निकल का दोस्त को पोस्ट करेंगे ये नियत हो हमारी?

kya-makkah-mai-selfie-lena-sahi-hai

Allah Behtar Janne Wala Hai Wahi Maaf Karne Wala Hai

अगर हमारी नियत यही है की हम सेल्फी ले कर पोस्ट करेंगे जब वह पहुंचेंगे तो अल्लाह बेहतर जानने वाला है वही माफ़ करने वाला है. पर मेरी नंजर में ये काम सही नहीं अएसे रिवाज़ को हमें बंद करना चाहिए मेरी नज़र में तो ये काम गैर इस्लामिक कार्य है और अएसे कार्य को नहीं करना चाहिए क्या पता हम वह जा रहे है अपने गुनाहों की माफ़ी और आखिरत सुधारने और ये सेल्फी के वजह से और गुनाह में गिरफ्तर हो जाये।

Aap Apni Rai Zarur de Comment ke Jariye Post Par

तमाम लोग अपनी राय जरूर कमेंट के जरिये दे ताकि पता चले की सब क्या सोचते है इसके बारे मे, ये आप लोगो के लिए पोस्ट है ताकि आप अपनी राय यहाँ पर कायम करे. एक बार फिर कहुगा आप अपनी राय जरूर दे.

ये मेरी नज़र से देख हुआ सवाल है, और मैं ये सोचता हु…… जो हराम है वो हराम है हम मुस्लिम को वेस्टन कर्चोर् नहीं अपनाना चाहिए बल्कि अल्लाह की बताई रह में ही चलना चाहिए।


Fatal error: Uncaught Exception: 12: REST API is deprecated for versions v2.1 and higher (12) thrown in /home/irfansid/digitalhadith.com/wp-content/plugins/seo-facebook-comments/facebook/base_facebook.php on line 1273