Hadith Sharif

Hadith Sharif

(1) हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैय व सल्लम ने फ़रमाया! जिसने हम मुसलमनो पर हथ्यार उठाया वो हम से नहीं है.

(७०७०: जिल्द ८: शाही बुखारी शरीफ)

HADITH-E-BUKHARI-SHARIF

(2) हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैय व सल्लम ने फ़रमाया! मुस्लमान को गली देना फसक है और उसको क़तल करना कुफर है.

(७०७६: जिल्द ८: शाही बुखारी शरीफ)

[4] हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैय व सल्लम ने फ़रमाया! ज़माना क़रीब होता जायेगा और अमल काम होता जायेगा और लालच दिलों में डाल दिया जायेगा और फित्ने ज़ाहिर होने लगेंगे, और हर्ज की कसरत होने लगेगी लोगों ने सवाल किया, ये रसूल अल्लाह! ये हर्ज क्या चीज़ है? आप सल्लल्लाहो अलैय व सल्लम ने फ़रमाया के क़तल! क़तल!

(७०६१: जिल्द ८: शाही बुखारी शरीफ)

(5) हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैय व सल्लम ने फ़रमाया! अच्छा ख्वाब अल्लाह की तरफ से होता है और बुरा ख्वाब शैतान की तरफ से. अगर कोई बुरा ख़्वाब देखे तो उसे से (ख़्वाब) से अल्लाह की पनाह मांगनी चाहिए और बाएं (लेफ्ट) तरफ थूकना चाहिए, ये उसे कोई नुकसान नहीं पंहुचा सकेगा.

(६९८६: जिल्द ८: शाही बुखारी शरीफ)

(6) हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैय व सल्लम ने फ़रमाया! जब तुम्हे मालूम हो के किसी सर ज़मीन में वबा पहेली हुई है तो उसमे दाखिल मत हो, लकिन अगर किसी जगह वबा फूट परे और तुम वही मौजूद हो तो वबा से भागने के लिए तुम वहां से निकालो भी मत.

(६९७३: जिल्द ८: शाही बुखारी शरीफ)


Fatal error: Uncaught Exception: 12: REST API is deprecated for versions v2.1 and higher (12) thrown in /home/irfansid/digitalhadith.com/wp-content/plugins/seo-facebook-comments/facebook/base_facebook.php on line 1273