Behtar Koun Duniya Ya Akhirat

Behtar Koun Duniya Ya Akhirat

अल्लाह पाक ने ही दुनिया बनाई व बसाई और उसमे अपनी इबादत के लिए इन्शानो को पैदा फ़रमाया। हर आने वाला एक मुक़र्रर वक़्त के लिए दुनिया में आता है और वक़्त पूरा होते ही मौत की गोद में चला जाता है मौत के बाद उससे एक नयी ज़िन्दगी मिलेगी जो हमेशा के लिए होगी। यह दुनिया तो बस चंद दिनों के लिए है.

दुनिया में इन्शान के पास जो भी है माल, दौलत, औलाद, इज़्ज़त – जिल्लत, अमीरी – गरीबी सब अल्लाह के तरफ से है इन्शान के पास जो कुछ भी है वो जो हालात में है वो सब उसके लिए आज़माइश है दुनिया में जो कुछ मिला, आख़िरत के मुकाबले में कुछ भी नहीं है यहाँ दुनिया तो चंद दिनों की है और आख़िरत ही हमारा असली घर है जिस को हम भूले हुवे है चंद दिनों के दुनियावी ज़िन्दगी के लिए हम दिन रात किये हुवे है लेकिन अफ़सूस उस हमेशा वाले घर के लिए कोई फ़िक्र व तैयारी नहीं।

behtar-koun-duniya-ya-akhirat

Duniya Mai Hasil Hone Wali Qamiyabi

दुनिया में हाशिल होने वाली कामियाबी, धन – दौलत सब कुछ बेवफा है क्योंकि मारने के बाद वह सब कुछ छूट जाती है कोई साथ नहीं जाता साथ अगर जाता है तो उसका अच्छा अमाल हाय अफ़सोस, जिसे हासिल करने के लिए हम ने न जाने कितने और कैसे – कैसे उलटे सीधे जतन किये, हमें सब कुछ यही छोड़ कर जाना पड़ता है

क़ुरान पाक की बहुत सी आयतो में मौत के बाद की ज़िन्दगी के लिए जायद से जयदा नेक अमल करने की ताकीद आयी है मौत आएसी हकीकत है जिससे इंकार नहीं किया जा सकता इसलिए आख़िरत की हकीकत के मुकाबले में तो यह दुनिया कुछ भी नहीं, लेकिन इस का एहसास काम ही लोग को होता है

दुनियावी ज़िन्दगी में इन्शान दुनिया के लिए जैसी मेहनत करता है, उस का फल उसे मिलता है, इसी तरफ आख़िरत में भी उसे फल मिलेगा जिसके अमल अच्छे होंगे। नाफरमान लोग जहन्नम के हवाले किये जायेगे और और नेक लोगो के लिए अल्लाह ने जन्नत का वादा फ़रमाया है जिस तरह मिला मेहनत व कोशिश दुनिया की दौलत नहीं मिल सकती, उसी तरह बिना नेक अमाल के आख़िरत में अच्छा फल नहीं हाशिल हो सकेगा क्योंकि आख़िरत का इनाम उनके लिए है जो ईमान लाये और नेक अमाल किये।

Hazrat Rafah Radiallah Anhu

हज़रात रफाअह रदियल्लाहो अन्हो फरमाते है – एक बार सरकार के साथ चल रहा था, आप चलते – चलते ईदगाह के मैदान में पहुचे जहा साहब आवाज़ लगा लगा कर अपना माल बेच रहे थे आपने बुलंद आवाज़ से फ़रमाया आये ताजिरों! आपकी आवाज़ सुन कर लोग अपना काम छोड़ कर आपके तरफ आए आपने फ़रमाया – जो लोग अल्लाह से डरते हुवे, ईमानदारी के साथ कारोबार करते है वह क़यामत में शहीदों के साथ उठाये जायेगे और जो लोग बेईमानी से दौलत कमाएंगे वह फ़ासिक़ व फ़ाजिर उठाये जायेगे।

आख़िरत में भलाई उसी को नसीब होगी जो हक़ व ईमान की जिंदगी गुज़ारेगा और अल्लाह व रसूल की फरमा बरदारी करेगा। जो लोग इसकी अहमियत नहीं समझते, व आख़िरत में बड़े घाटे में रहेगे अल्लाह पाक हमें दुनिया में अपनी इबादत की तौफीक बख्शे, हक़ पर कायम रखे और जायद से जयदा नेक अमाल करने की सआदत बख्शे। अमीन!