Abu Hurairah Radi Allahu Anhu Se Rivayat Hai

Abu Hurairah Radi Allahu Anhu Se Rivayat Hai.

(1) अबु हुरैरह रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की रसूल अल्लाह सल्लाह हो अलैय व सल्लम ने फ़रमाया।
अल्लाह तालाह फ़रमाता है की इंसान ज़माने (वक़्त को) बुरा कहता है जबकि मैं ही ज़माना हु और मेरे ही हाथ मैं रात दिन है. (शाही बुखारी, वॉल्यूम 7, 6181)

Abu-Hurairah-Radi-Allahu-Anhu-Se-Rivayat-Hai

(2) इब्न अब्बास रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की रसूल अल्लाह सल्लल्लाहो अलैये व सल्लम ने ज़कात टूल फ़ित्र को बेकार और बेहूदा बात से रोज़े को पाक करने और मिस्कीनों की परवरिश के लिए मुक़र्रर फ़रमाया है जो शक्श ईद की नमाज़ से पहले इससे अदा करेगा वो ज़कात की तरह क़ुबूल किया जायेगा और अगर कोई नमाज़ के बाद अदा करेगा तो वो दूसरे सदक़े की तरह एक सदक़ा होगा. (Sunan Abu Dawud, Jild 1 , 1596 – Hasan)

Tum log takbir ki awaz son log to namaz ke liye chalo.

(3) अबु हुरैरह रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की रसूल अल्लाह सल्लाह हो अलैय व सल्लम ने फ़रमाया.
तुम लोग तकबीर की आवाज़ सुन लो तो नमाज़ के लिए चलो, सुकून और वक़्त को पकड़े रखो, और दौड़ के मत आओ फिर नमाज़ का जो हिस्सा मिले उससे पद लो और जो न मिल सके उससे बाद मैं पूरा कर लो. (शाही बुखारी ,वॉल्यूम 1, 636 )

(4) शाद रदी अल्लाह अन्हु से रिवायत है की रसूलल्लाह सल्लल्लाहो अलैय व सल्लम ने फ़रमाया।
मेरी उम्मत के लोगों में उस वक़्त तक खैर बाक़ी रहेगी जब तक वो इफ्तार में जल्दी करते रहेंगे। (शाही बुखारी ,वॉल्यूम ३, 1957)

Jab tum mai se koi iftar karne lage to khajur se iftar kare.

(5) अनस बिन मालिक रद्दी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की जब वो बच्चो के पास से गुज़रे तो उन्होंने बच्चो को सलाम किया और कहा की रसूल अल्लाह सल्लल्लाहो अलैय व सल्ल्लम भी ऐसा ही किया करते थे. (शाही बुखारी ,वॉल्यूम 7, 6247)

(6) अबु हुरैरह रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की रसूल अल्लाह सल्लाह हो अलैय व सल्लम ने फ़रमाया।
क़यामत उस वक़्त तक क़ायम न होगी जब तक सूरत मग़रिब से न निकल जाये और जब सूरत मगरिब से निकल जायेगा उस वक़्त (अल्लाह की ये निशानी देख कर) सरे लोग ईमान ले आयेगें मगर उस वक़्त किसी का ईमान लाना फायदा नहीं देगा जो पहले ईमान न लए होगे और ईमान के साथ नेकी नहीं की होगी. (शाही बुखारी ,वॉल्यूम 6, 396)

Aur khajur na mile to pani se kare kyonki pani paak karne wala hai.

(7) सलमान बिन अमर रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की रसूल्लल्लाह सललललहुँ अलैय व सल्लम ने फ़रमाया।
जब तुम मैं से कोई रोज़ा इफ्तार करने लगे तो खजूर से इफ्तार करे और अगर खजूर न मिले तो पानी से करे क्योंकि पानी पाक करने वाला है. (Sunan Ibn Majah, Vol 1 , # 1699-Sahih)

(8) ज़ैद बिन खालिद अल जुहानी रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की रसूलल्लाह सल्लल्लाहु अलैय व सल्ल्लम ने फ़रमाया।
जो किसी रोज़ेदार का रोज़ा इफ्तार करवाये तो उसको भी उसके बराबर सवाब मिलेगा और रोज़ेदार के सवाब में कमी भी न होगी। (Sunan Ibn Majah, Vol 1 , 1746-Sahih)

(9) अनस रदी अल्लाहु अन्हु से रिवायत है की रसूल्लल्लाह सल्लल्लाहु अलैय व सल्लम ने फ़रमाया।
सेहरी खाया करो क्योंकि सेहरी के खाने मैं बरकत है. (शाही मुस्लिम वॉल्यूम 3, 2549)


Fatal error: Uncaught Exception: 12: REST API is deprecated for versions v2.1 and higher (12) thrown in /home/irfansid/digitalhadith.com/wp-content/plugins/seo-facebook-comments/facebook/base_facebook.php on line 1273