Hadith Sharif

HADITH-E-BUKHARI-SHARIF

Hadith Sharif (1) हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैय व सल्लम ने फ़रमाया! जिसने हम मुसलमनो पर हथ्यार उठाया वो हम से नहीं है. (७०७०: जिल्द ८: शाही बुखारी शरीफ) (2) हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैय व सल्लम ने फ़रमाया! मुस्लमान को गली देना फसक है और उसको क़तल करना कुफर है. (७०७६: जिल्द ८: शाही बुखारी शरीफ) [4] हज़रत […]

Ramzan Ki Nafil Ibadat

ramazan-ki-nafil-ibadatein

Ramzan Ki Nafil Ibadat. रमजान की नफिल इबादतें रमजान इबादत का महीना है. इस मुबारक महीने में अल्लाह के बन्दे अपने रब का इनाम पाने के लिए नफिल इबादत करते है. ११ महीने मस्जिद से दूर रहने वाले, बड़े से बड़ा गुनाहगार भी अल्लाह की रहमत पर यकीन रखता होवा अल्लाह के घर में अपने […]

Zara Socho To Sahi

zara-socho-to-sahi

Zara Socho To Sahi. ज़रा सोचो तो सही ज़रा ये तो मुझे समझो, की जब कोई मूवी या हीरो की पोस्ट हम देखते है तो उस पेज पर शामिल जाएदा से जाएदा लोग उससे लिखे करते है, पर जब एक इस्लामिक पेज पर कोई पोस्ट होती है तो उस इस्लामिक पेज की पोस्ट पर ७% […]

Sar Dhakna Adab Hai

sar-dhakna-adab-hai-aur-izzat-bhi

Sar Dhakna Adab Hai. सर ढकना अदब है सर ढकना अदब की अलामत है निशानी है, यहाँ हमारी शान व पहचान भी है हमारे कुछ मुस्लिम भाइयों की यह सोच बन गयी है की सर ढकना तो शिर्फ़ नमाज़ में ही ज़रूरी है, बल्किएक जमात तो अब नग्गे सर नमाज़ पड़ने में फकर महसूस करती […]

Allah Paak Ne Hame Kyon Paida Kiya

allah-paak-ne-hame-kyon-paida-kiya

Allah paak ne hame kyon paida kiya. ये सवाल अक्सर हमारे ज़ेहन में अत है की अल्लाह पाक ने हमे क्यों बनाया इस दुनिया में अल्लाह पाक ने हर किसी चीज़ को किसी न किस मक़सद के साथ बनाया है जैसे बदल पानी बरसता है सूरज हमे दिन में रौशनी देता है ताकि हम काम […]

Quran ki tilawat

quran-kitilawat

Quran ki tilawat ho rahi ho to khamoshi ke sath sunna wajib hai. Tilawat  karne wale sawab to milta hi hai, sunne walo ko bhi sawab milta hai. Jo log tilawat ke dawran khamosh nahi rahete, usse sunte nahi, waha gunahgaar hote hai. Isliye namaz mai jab imaan sahab Qurani suratein ayeate padh rahe hote […]

Duniya wa Akhirat

duniya-wa-akhirat

Quran majeed Allah paak ki wah Mubarak kitab hai jisme logo ko duniya mai zindagi guzarne aur akhirat ki tayyari karne ki talim di gayi hai. Usme yaha bhi bata diya gaya hai ki yah duniyavi zindagi insaan ke liye azmayis hai. Isliye hame chahiye ki ham Allah aur uske rasul ki batayi talim par […]

© 2010 - 2014 Digital Hadith by Iqbal Siddiqui | Sitemap | Archives